August 12, 2022
अमेरिका की अपील, रूस के साथ बड़े हथियारों के सौदों से करें परहेज

[ad_1]

भारत-अमेरिका के बीच ‘टू प्लस टू’ मंत्रिस्तरीय वार्ता में अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा है कि अमेरिका सभी देशों से रूस के साथ बड़े हथियारों का लेन-देन नहीं करने की अपील कर रहा है. भारत और अमेरिका के रक्षा और विदेश मंत्रियों के बीच 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता के दौरान यह पूछे जाने पर कि क्या वाशिंगटन एस-400 वायु रक्षा प्रणालियों की खरीद पर भारत पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहा है.

ब्लिंकन ने कहा कि हम सभी देशों से रूसी हथियार प्रणालियों के लिए बड़े नए लेनदेन से बचने का आग्रह करते हैं. विशेष रूप से उन हालात में जब रूस यूक्रेन में लगातार हमले कर रहा है. हमने अभी तक CAATSA कानून के तहत संभावित प्रतिबंधों या संभावित छूट के बारे में कोई निर्धारण नहीं किया है. जयशंकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ सोमवार को भारत-अमेरिका के बीच ‘टू प्लस टू’ मंत्रिस्तरीय वार्ता में भाग लेने के लिए वाशिंगटन पहुंचे थे.

रूस के साथ हथियारों का लेन-देन न करने की अपील

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने माना है कि सैन्य उपकरणों के व्यापार में भारत और रूस के बीच एक लंबा इतिहास और लंबा संबंध है. उस रिश्ते ने ऐसे समय में जोर दिया जब हम भारत के लिए भागीदार बनने में सक्षम और इच्छुक नहीं थे. अब हम इस तरह के भागीदार बनने में सक्षम और इच्छुक हैं. भारत के लिए पसंद का सुरक्षा भागीदार बनने के लिए. एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए अमेरिकी रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन ने कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका भारत के साथ सैन्य आधुनिकीकरण पर सक्रिय रूप से चर्चा कर रहा है और भारत के लिए हथियार प्रणालियों को और अधिक किफायती बनाने के लिए तैयार है.

भारत की आधुनिकीकरण जरुरतों को समर्थन के लिए तैयार- अमेरिका

अमेरिकी रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन ने शीर्ष भारतीय अधिकारियों के साथ बैठक के बाद एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा कि भविष्य की प्रणालियों के मुद्दे पर, हम भारत के साथ सक्रिय चर्चा में लगे हुए हैं कि कैसे उनकी आधुनिकीकरण जरुरतों को बेहतर तरीके से समर्थन किया जाए. जैसा कि हम भविष्य को देखते हैं, हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि हम एक साथ काम करने की क्षमता बनाए रखें. इसमें कई विकल्प भी शामिल हैं जो हमारे सिस्टम को और अधिक किफायती बना देंगे, बता दें कि भारत कई रूसी निर्मित हथियारों का उपयोग करता है, जिसमें टैंक और मिसाइल सिस्टम शामिल हैं, और रूस की एस -400 वायु रक्षा प्रणाली की खरीद सहित सौदों पर हस्ताक्षर किए हैं. यूक्रेन में जंग के बीच भारत ने रूस के खिलाफ पश्चिमी प्रतिबंधों में शामिल होने से इनकार किया है.

ये भी पढ़ें-

Russia Ukraine War: क्या यूक्रेन में रासायनिक हथियार का इस्तेमाल कर सकती है रूसी सेना? जेलेंस्की ने किया ये दावा

Russia Ukraine War: रूस समर्थक अलगाववादियों ने किया दावा- यूक्रेन के मारियुपोल बंदरगाह पर हमारा कब्जा

 

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.