August 13, 2022
अश्विन बोले- टी20 अब उस ओर जा रहा है जहां फुटबॉल पहुंच चुका है, जानिए- वजह

[ad_1]

नई दिल्ली. अनुभवी ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को लगता है कि टी20 क्रिकेट बतौर खेल अब उस ओर जा रहा है, जहां फुटबॉल पहुंच चुका है. अश्विन का साथ ही मानना है कि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) पहले ही रणनीतिक कदम के तौर पर ‘रिटायर्ड आउट’ का इस्तेमाल देर से कर रहा है. अश्विन ने पहली बार लीग के मौजूदा सीजन में इसकी शुरुआत की लेकिन उन्हें उम्मीद है कि निकट भविष्य में ऐसा काफी देखने को मिलेगा.

35 वर्षीय अश्विन रविवार को लखनऊ सुपर जायंट्स के खिलाफ राजस्थान रॉयल्स के लिए छठे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे लेकिन 19वें ओवर में 2 गेंद के बाद मैदान छोड़कर चले गए जिससे रियान पराग क्रीज पर उतरे. अश्विन ने रिटायर आउट होने से पहले 23 गेंद में 28 रन बनाए.

इसे भी देखें, जिन खिलाड़ियों से फ्रेंचाइजी ने तोड़ा सालों पुराना नाता, वो मचा रहे नई टीमों के साथ धमाल

अश्विन ने अपने यूट्यूब चैनल से कहा, ‘टी20 बतौर खेल उस ओर जा रहा है जहां फुटबॉल पहुंच चुका है. फुटबॉल में जिस तरह स्थानापन्न खिलाड़ियों का इस्तेमाल होता है, मैंने उसी तरह (रिटायर आउट होकर) किया. हमें पहले ही इसमें देर हो चुकी है, लेकिन मेरा मानना है कि आने वाले दिनों में ऐसा काफी देखने को मिलेगा.’

उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि यह ‘नॉन स्ट्राइकर’ छोर पर खड़े खिलाड़ी को रन आउट करने जैसा ‘दाग’ होगा.’ हालांकि उन्हें लगता है कि यह कदम शायद हमेशा काम नहीं करेगा. उन्होंने कहा, ‘यह कभी कभार कारगर हो सकता है और कभी-कभार नहीं भी. फुटबॉल में ये चीजें लगातार होती हैं और हमने टी20 क्रिकेट में पूरी तरह से प्रवेश नहीं किया है. यह अगली पीढ़ी का खेल है.’

अश्विन ने कहा, ‘आप फुटबॉल में देखोगे कि मेसी या क्रिस्टियानो रोनाल्डो अकसर गोल करते हैं लेकिन उनकी टीम के गोलकीपर को हमेशा गोल बचाने चाहिए और उनके डिफेंडरों को हमेशा अच्छा बचाव करना चाहिए. तभी मेसी या रोनाल्डो सुर्खियों में होंगे.’ वह अंतिम ओवरों में इच्छानुसार बाउंड्री नहीं लगा सकते थे तो अश्विन ने सोचा कि बेहतर होगा पराग के लिये रास्ता बनाया जाए.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 650 से ज्यादा विकेट ले चुके अश्विन ने कहा, ‘यह सिर्फ रणनीतिक कदम था बल्कि रियान पराग बहुत अच्छी बल्लेबाजी कर रहा था और जब कृष्णप्पा गौतम का (16वां) ओवर समाप्त हुआ तो मैंने खुद को कुछ समय दिया -5-6 गेंद – यह देखने के लिए कि मैं एक छक्का या दो चौके लगा सकता हूं.’

उन्होंने कहा, ‘मैंने हिट करने की कोशिश की और सही से टाइम नहीं कर सका लेकिन रियान पराग जैसा खिलाड़ी जो डगआउट में बैठा था और केवल 10 गेंद बची थीं. अगर वह आता और दो छक्के लगा देता तो हम अच्छा स्कोर बना सकते थे. यह रणनीतिक फैसला था.’ अश्विन आईपीएल में ‘नॉन-स्ट्राइकर’ छोर पर रन आउट करने वाले भी पहले खिलाड़ी थे जिन्होंने 2019 में जोस बटलर को इसी तरह आउट कर विवाद खड़ा कर दिया था.

Tags: Ashwin, Cricket news, Indian premier league, IPL 2022, Ravichandran ashwin

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.