August 13, 2022
ऑस्ट्रेलिया का तेज गेंदबाज जिसने आखिरी पारी में दोहरा शतक जड़ा, फिर टीम में नहीं मिली एंट्री

[ad_1]

नई दिल्ली. ऑस्ट्रेलिया के पहले आदिवासी पुरुष क्रिकेटर जेसन गिलेस्पी (Jason Gillespie) आज का जन्मदिन है. दस सालों तक ऑस्ट्रेलिया का प्रतिनिधित्व करने वाले गिलेस्पी अपने खतरनाक गेंदबाजी के लिए जाने जाते थे. इस गेंदबाज ने बल्लेबाजी में भी एक बड़ा रिकॉर्ड अपने नाम किया है. अपनी आखिरी पारी में गिलेस्पी ने  बांग्लादेश (Bangladesh) के खिलाफ चटगांव में 201 रनों की पारी खेली थी.  बतौर नाइटवॉटमैन बल्लेबाज आज तक भी रिकॉर्ड है. हालांकि, यह पारी उनके अंतरराष्ट्रीय करियर का आखिरी पड़ाव साबित हुआ. गिलेस्पी को इस मुकाबले के बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम में जगह नहीं मिली.

तीसरे नंबर पर उतरे और ठोक दिया दोहरा शतक
साल 2006 में ऑस्ट्रेलियाई टीम बांग्लादेश के दौरे पर गई थी. दो टेस्ट मैचों की सीरीज का दूसरा मुकाबला चट्टगांव में खेला जा रहा था. ऑस्ट्रेलिया की घातक गेंदबाजी के सामने बांग्लादेश की पहली पारी को 197 रन पर ही सिमट गई. इसके बाद फिल जैक्स और मैथ्यू हेडन की सलामी जोड़ी ने पहले विकेट के लिए 67 रन जोड़े. मैथ्यू हेडन 29 रन बनाकर आउट हुए तो तीसरे नंबर पर बतौर नाइटवाचमैन जेसन गिलेस्पी को भेजा गया. इसके बाद जो हुआ वो इतिहास में दर्ज है.

माइस हसी के साथ की 320 रनों की साझेदारी
कप्तान रिकी पॉन्टिंग और गिलेस्पी के बीच 90 रनों की साझेदारी हुई. पॉटिंग 52 रन बनाकर रन आउट हो गए.. इसके बाद गिलेस्पी ने माइक हसी के साथ 320 रनों की शानदार साझेदारी की. गिलेस्पी ने 426 गेंदों में 201 रनों की पारी खेली जिसमें 26 चौके औऱ दो छक्के शामिल थे. माइक हसी ने इस मुकाबले में 182 रन बनाए थे. गिलेस्पी का दोहरा शतक पूरा होते ही पॉन्टिंग ने पारी घोषित कर दी.

ऑस्ट्रेलिया को पहली पारी में 384 रनों की लीड हासिल हुई. बांग्लादेश की दूसरी पारी 304 रन पर सिमट गई और ऑस्ट्रेलिया ने यह मुकाबला 80 रन से मैच जीता. गिलेस्पी को इस मुकाबले का मैन ऑफ द मैच चुना गया. वो मैन ऑफ द सीरीज भी बने. लेकिन इसके बाद वो कभी ऑस्ट्रेलिया के लिए नहीं खेल पाए.

कोच की भूमिका भी निभा चुके हैं जेसन गिलेस्पी
जेसन गिलेस्पी बिग बैश लीग में एडिलेड स्ट्राइकर्स के कोच रह चुके हैं. इसके अलावा 5 साल इंग्लिश काउंटी टीम यॉर्कशर के भी कोच रहे. उन्होंने भारतीय तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा को भी मुश्किल समय में मदद की है. इशांत ने अपने खेल में बदलाव का श्रेय गिलेस्पी को दिया है. गिलेस्पी ने ऑस्ट्रेलिया की तरफ से 71 टेस्ट, 93 वनडे और एक अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैच खेला है. चोट से प्रभावित रहे अपने क्रिकेट करियर में उन्होंने टेस्ट मैचों में 259, वनडे में 142 और टी-20 में 1 विकेट हासिल किया.

Tags: Australia, Cricket news, Jason Gillespie, On This Day

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.