August 12, 2022
चीन में एक बार फिर दस्तक दे रहा कोरोना वायरस, 3400 से अधिक नए मामले आए

[ad_1]

एक बार फिर चीन में  कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा बढ़ गया है. राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने यह जानकारी दी है कि, 3,400 से अधिक नए मामले सामने आए हैं. इसके अलावा 20,700 ऐसे मामलों का भी पता चला जिनमें मरीजों में कोविड के कोई लक्षण नजर नहीं आए. संक्रमण के अधिकतर मामले शंघाई से आये जहां, पिछले दो सप्ताह से महामारी के प्रसार को काबू में लाने के लिए लॉकडाउन जारी है. वहीं स्थानीय लोगों में भोजन और स्वास्थ्य सेवाओं की आपूर्ति को लेकर अंसतोष बढ़ता जा रहा है.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने यह जानकारी दी, नागरिक स्वास्थ्य आयोग ने शुक्रवार को बताया कि चीन के आर्थिक केंद्र शंघाई में बृहस्पतिवार को स्थानीय स्तर पर फैले कोविड-19 के 3,200 मामलों की और बिना लक्षणों वाले 19,872 मामलों की पुष्टि की गई. शहर में पहले ही कोरोना वायरस संक्रमण की जांच के लिए कई दौर के परीक्षण किये जा चुके हैं. साथ ही संक्रमितों के इलाज के लिए अस्थायी अस्पताल बनाये जा चुके हैं. राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने यह भी बताया कि बीते चौबीस घंटे में कोरोना संक्रमित रोगियों के 28,778 करीबी लोगों को स्वास्थ्य निगरानी से मुक्त किया गया.

गौरतलब है कि चीन के वुहान से 2019 में कोरोना वायरस संक्रमण का पहला मामला सामने आया था, बाद में कोरोना वायरस के संक्रमण ने वैश्विक महामारी का रूप ले लिया था. अब एक बार फिर यह उसी क्षेत्र में इतनी तेजी से कोरोना बढ़ रहा है, जब की बाकी दुनिया ने कोरोना वायरस को लगभग नियंत्रित कर लिया है.

शंघाई में स्थिति इतनी खराब होने लगी है-
राज्य के ग्लोबल टाइम्स में शुक्रवार को छपी रिपोर्ट के मुताबिक, शंघाई शहर कोरोना वायरस संक्रमण के ओमीक्रोन स्वरूप के खिलाफ अपने सबसे कठिन समय से गुजर रहा है. स्थानीय निवासियों के बीच संदेह, चिंता और थकान ध्यान देने योग्य है. कोई भी हृदय विदारक कहानी जनता के रोष को जगा सकती है. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इंटरनेट पर जनआक्रोश की सुनामी आ गई है.

शंघाई में सबसे अधिक बुजुर्ग आबादी प्रभावित –
शंघाई में लाखों लोग भोजन की कमी, अपने पड़ोसियों को पृथकवास तक पहुंचाने में देरी और रोजमर्रा की परेशानियों से जूझ रहे हैं, इस महामारी से शंघाई में सबसे अधिक बुजुर्ग आबादी प्रभावित है. शंघाई चीन के उन शहरों में से एक हैं जहां बुजुर्गों की आबादी सबसे ज्यादा है. अनिश्चितकालीन लॉकडाउन के दौरान इस समूह पर ज्यादा प्रभाव इसलिए भी आया है, क्योंकि अधिकतर लोग उम्र संबंधी पुरानी बीमारियों से भी ग्रसित हैं. इसके साथ ही चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने बृहस्पतिवार को अपने हैनान प्रांत के दौरे में कहा, ‘‘यह देखते हुए कि वैश्विक कोविड-19 महामारी की स्थिति अभी भी गंभीर है, हमें अपनी प्रतिक्रिया में कभी भी ढील नहीं देनी चाहिए, क्योंकि जीत दृढ़ता से आती है.’’

ये भी पढ़ें:

 Khargone Violence: कर्फ्यू से ठप पड़े खरगोन में अब अफवाहों का जोर, रात के वक्त पुलिस और पैरामिलिट्री को बढ़ानी पड़ी गश्त

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.