August 15, 2022
यूक्रेन को बख्शने के मूड में नहीं पुतिन, बोले- मकसद पूरा होने तक मिलिट्री एक्शन जारी रहेगा

[ad_1]

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को कहा कि रूस यूक्रेन में तब तक सैन्य अभियान जारी रखेगा जब तक कि उसके लक्ष्य पूरे नहीं हो जाते. पुतिन ने कहा कि अभियान योजना के मुताबिक चल रहा है. उन्होंने कहा कि यह तेजी से आगे नहीं बढ़ रहा है क्योंकि रूस नुकसान को कम करना चाहता है.

उन्होंने रूस के सुदूर पूर्व में वोस्तोचन स्पेस लॉन्च सेंटर की यात्रा के दौरान कहा, ‘सैन्य अभियान तब तक जारी रहेगा जब तक कि यह पूरा नहीं हो जाता और निर्धारित लक्ष्यों को हासिल नहीं कर लिया जाता.’ पुतिन ने दावा किया कि यूक्रेन इस्तांबुल में रूसी वार्ताकारों के साथ बातचीत के दौरान किए गए प्रस्तावों से पीछे हट गया, जिसके परिणामस्वरूप वार्ता में गतिरोध पैदा हो गया और रूस के पास अपने आक्रामक रवैये के साथ आगे बढ़ने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं बचा.

वहीं यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने लिथुआनियाई संसद को एक वीडियो संबोधन में कहा कि यूरोपीय संघ को रूसी तेल पर प्रतिबंध लगाना चाहिए,  जबकि रूसी गैस को सीमित करना चाहिए. उन्होंने कहा, “प्रतिबंधों के छठे पैकेज में रूसी तेल पर प्रतिबंध शामिल होना चाहिए,  जबकि यूरोपीय देशों को रूसी गैस के आयात को रोकने के लिए एक समय सीमा स्थापित करनी चाहिए.”

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की रूस के खिलाफ विश्व जनमत तैयार करने के लिए लगातार जहां दूसरे देश के नेताओं से बात कर रहे हैं. वहीं उन्होंने कई देशों की संसद को भी संबोधित किया है. इससे पहले उन्होंने दक्षिण कोरिया की संसद से अपने वीडियो संबोधन में कहा कि उनका मानना है कि मारियुपोल में “दसियों हज़ार” लोग मारे गए हैं. उन्होंने सांसदों से सैन्य सहायता प्रदान करने को कहा. 

मारियुपोल के मेयर ने किया ये दावा 

बता दें मारियुपोल के मेयर वादिम बॉयचेंको ने इस बात का दावा किया है कि रूसी सेना की ओर से यूक्रेन के दक्षिणी बंदरगाह शहर मारियुपोल में पिछले छह सप्ताह से लगातार किए जा रहे हमलों में अब तक 10 हजार से अधिक नागरिकों की मौत हो चुकी है. वादिम बॉयचेंको ने कहा कि हालात इतने खराब हैं कि शहर में लोगों की लाशें सड़कों पर कालीन की तरह बिछी हुई हैं. उनके मुताबिक रूसी हमले में जान गंवाने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 20 हजार तक पहुंच सकती है.

यह भी पढ़ें: 

श्रीलंका: आर्थिक संकट ने किए हालात बद से बदतर, बच्चों के अस्पताल में इंसुलिन की कमी, डॉक्टरों ने की दान की अपील

2+2 वार्ता से लेकर मोदी-बाइडेन की वर्चुअल मीटिंग तक… जानें भारत-अमेरिका के बीच क्या-क्या हुई बात?

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.