August 9, 2022
यूक्रेन में आसमान से मौत बरसा रहा रूस, दागे फास्फोरस बम, आम नागरिकों की गाड़ियों पर फायरिंग

[ad_1]

रूस और यूक्रेन के बीच जंग लगातार जारी है. करीब 6 हफ्तों से चल रही इस जंग में अब तक कई लोगों और सैनिकों की मौत हो चुकी है. साथ ही यूक्रेन के कई शहर श्मशान में तब्दील हो चुके हैं. यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की लगातार रूस के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं और उन्होंने अब आरोप लगाया है कि रूस केमिकल अटैक कर सकता है. इसी बीच यूक्रेन की तरफ से दावा किया गया है कि रूसी सेना ने कुछ जगहों पर फास्फोरस बम का इस्तेमाल किया है. इससे पहले यूक्रेन के राष्ट्रपति भी ऐसा ही आरोप लगा चुके हैं. 

रूस और यूक्रेन के अलग-अलग दावे
यूक्रेन के अधिकारियों का आरोप है कि जपोरिजिया क्षेत्र में रूसी सैनिकों ने फास्फोरस बम ड्रॉप किए. इससे पहले भी यूक्रेन की तरफ से ऐसे आरोप लगाए जा चुके हैं. वहीं रूस का कहना है कि वो ऐसे हथियारों का इस्तेमाल नहीं कर रहा है, सिर्फ सैन्य ठिकानों पर ही बमबारी की जा रही है. उधर दूसरी तरफ ये भी दावा किया जा रहा है कि यूक्रेन के डिनप्रो शहर के मुर्दाघर में युद्ध में मारे गए करीब 1500 रूसी सैनिकों के शव रखे गए हैं. डिनप्रो के अधिकारियों की तरफ से ये जानकारी दी गई है. 

तमाम बातचीत के दावों के बीच रूस लगातार यूक्रेन पर हमले कर रहा है. जिससे रोजाना कई लोगों की मौत हो रही है. अब बताया गया है कि यूक्रेन के खारकीव में रूसी बमबारी के दौरान 7 लोगों की मौत हुई है. वहीं रूसी सेना पर आरोप है कि उसने यूक्रेन के एक गांव में करीब 7 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी. इस तबाही के बीच लोग किसी तरह यूक्रेन के इन शहरों से निकलने में जुटे हैं. लेकिन यूक्रेन के बुचा में कुछ आम नागरिकों की गाड़ियों पर फायरिंग की खबर भी सामने आई है, बताया गया है कि ये लोग शहर से निकलने की कोशिश कर रहे थे. बता दें कि पिछले दिनों बुचा से कई भयानक तस्वीरें सामने आई थीं, जिनमें कई लोग सड़कों पर पड़े दिखे थे. 

यूक्रेन को कई देशों का समर्थन
रूस के हमले के बाद यूक्रेन को कई बड़े देशों का समर्थन मिल रहा है. हालांकि सीधे तौर पर कोई भी देश यूक्रेन के साथ जंग में नहीं उतर रहा, लेकिन उसे हर तरह की मदद पहुंचाने का काम किया जा रहा है. इस लिस्ट में सबसे ऊपर ब्रिटेन है, जो यूक्रेन को हर मोर्चे पर मदद दे रहा है. अब यूके ने रूस के और 206 लोगों पर प्रतिबंध लगाए हैं. इसके अलावा अमेरिका की तरफ से भी रूस पर कड़े प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं. हालांकि फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने एक टीवी इंटरव्यू में रूसी सेना के हमले को नरसंहार कहने से इनकार कर दिया. बता दें कि बुचा से सामने आई तस्वीरों के बाद रूसी सेना पर यूक्रेन में नरसंहार के आरोप लग रहे हैं. 

ये भी पढ़ें – 

Russia Ukraine War: बूचा में फिर रूसी बर्बरता, मेयर का दावा, मॉस्को सेना ने मारे 720 से ज्यादा लोग, 200 से अधिक लापता

Russia Ukraine War: जंग के बीच रूस का बड़ा दावा, मरियुपोल में 1000 से ज्यादा यूक्रेन के सैनिकों ने किया सरेंडर

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.