August 9, 2022
यूरोपीय काउंसिल के प्रमुख ने कहा - यूक्रेन में हुए युद्ध अपराधों को इतिहास नहीं भूलेगा

[ad_1]

कीव: यूरोपीय काउंसिल के प्रमुख चार्ल्स मिशेल ने बुधवार को कहा कि यूक्रेन में किए गए युद्ध अपराधों के लिए न्याय होना चाहिए. उन्होंने यूक्रेन की यात्रा पर तबाह हुए शहर बोरोडिएंका का दौरा किया था. मिशेल ने यूक्रेन के प्रति पश्चिमी समर्थन को व्यक्त करने के लिए कीव का दौरा करने वाले नवीनतम नेता है. ब्रिटिश के पीएम बोरिस जॉनसन भी कीव का दौरा कर चुके हैं.

मिशेल ने ट्विटर पर लिखा, “बोरोडियांका में. बुचा और यूक्रेन के कई अन्य शहरों की तरह. इतिहास यहां किए गए युद्ध अपराधों को नहीं भूलेगा. न्याय के बिना शांति नहीं हो सकती.”

 

मार्च के अंत में कीव के पास बोरोडिएंका और बुचा जैसे शहरों से मास्को की सेना वापस चली गई क्योंकि क्रेमलिन ने देश के पूर्व में सैनिय अभियान को फिर से शुरू किया.

पूर्वी यूक्रेन में रूसी हमले तेज
दरअसल रूसी सेना ने यूक्रेन के पूर्वी औद्योगिक क्षेत्र में कोयला खदानों और कारखानों पर नियंत्रण हासिल करने के लिए मंगलवार को हमले तेज कर दिए. रूसी बलों का मुख्य लक्ष्य पूर्वी डोनबास क्षेत्र पर कब्जा करना है.  राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की सेना के यूक्रेन की राजधानी कीव पर कब्जा करने के असफल प्रयास के बाद यहां जीत उसके लिए बेहद महत्वपूर्ण हो गई है.

पूर्वी शहर खारकीव और क्रामातोर्स्क पहले ही घातक हमलों की चपेट में हैं. रूस ने यह भी कहा कि उसने डोनबास के पश्चिम में जपोरिजिया और निप्रो के आसपास के क्षेत्रों पर मिसाइल हमले किए हैं. 

मायकोलीव में सुनी गई विस्फोटों की आवाज
क्षेत्रीय गवर्नर ने बताया कि पश्चिमी शहर मायकोलीव में बुधवार तड़के कई विस्फोटों की आवाज सुनी गई. पास के शहर बशतांका में भी एक अस्पताल में गोलीबारी की सूचना मिली थी.

डोनबास में तबाह हो चुके बंदरगाह शहर मारियुपोल में यूक्रेनी सैनिकों ने बताया कि रूसी सेना ने बंदरगाह शहर के एक विशाल इस्पात संयंत्र को नष्ट कर दिया है और एक अस्पताल को भी निशाना बनाया है, जहां सैकड़ों लोगों ने पनाह ली थी.

दोनों ही पक्षों ने इसे युद्ध का एक नया चरण बताया है. रूसी सेना ने देश के दक्षिण-पूर्व से उत्तर-पूर्वी यूक्रेन में 300 मील (480 किलोमीटर) से अधिक के व्यापक मोर्चे पर सोमवार को जबरदस्त हमले शुरू किए थे.

यह भी पढ़ें: 

Russia-Ukraine War: संयुक्त राष्ट्र ने कहा- युद्ध शुरू होने के बाद से 50 लाख से अधिक यूक्रेनी नागिरक छोड़ चुके हैं अपना देश

मुश्किल में ब्रिटिश PM, जॉनसन के भारत दौरे के दौरान ब्रिटेन की संसद में ‘पार्टीगेट’ मामले पर होगा मतदान



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.