August 9, 2022
NDTV Gadgets 360 Hindi

[ad_1]

ओडिशा में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। मोबाइल गेम खेलने के लिए फोन न देने पर 7वीं कक्षा में पढ़ने वाले एक लड़के की उसी के दोस्तों ने हत्या कर दी और उसके शव को नदी के किनारे फेंक आए। कथित घटना ओडिशा के कोरापुट जिले की है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोरापुट डिस्ट्रिक्ट में रहने वाले एक 12 साल के लड़के को अपने दोस्तों को मोबाइल फोन न देना जान से महंगा पड़ गया। 

लड़के ने दोस्तों को फोन पर वीडियो गेम खेलने से मना कर दिया। इस बात को लेकर उनमें झगड़ा हो गया। पुलिस ने बताया कि यह घटना मासीपुट गांव में हुई। तीनों लड़के स्कूल के पास में वीडियो गेम खेल रहे थे। लड़के ने अपने साथी मित्रों को फोन पर गेम खेलने देने से मना कर दिया और उन तीनों में झगड़ा हो गया। उसके दोनों दोस्तों ने पत्थरों से पीट पीटकर उसकी हत्या कर दी। इस घटना के बाद उन्होंने मृतक के शव को कोलाब नदी के किनारे डालकर छोड़ दिया। 

पुलिस को घटना की सूचना अगली सुबह मिली। अगली सुबह लड़के का शव नदी के किनारे से बरामद किया गया। परिजनों को बुलाया गया और लड़के के पिता ने शव की पहचान की। दरअसल, लड़के के पिता ने पहले दिन ही पुलिस में शिकायत दर्ज करवा दी थी। पुलिस ने बताया कि लड़का अनूसूचित जनजाति से संबंध रखता था, इसलिए संबंधित धाराओं में भी केस दर्ज किया गया। एडिशनल पुलिस कमिश्नर उत्कल केसरी दास ने कहा कि लड़के ही हत्या की घटना में शामिल दोनों लड़कों को कस्टडी में ले लिया गया है। मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। 

मोबाइल फोन के बढ़ते चलन के कारण आजकल हर किसी शख्स के हाथ में स्मार्टफोन है। बच्चों से लेकर जवानों और बुजुर्गों तक को इसको लत लग चुकी है। स्कूल जाने वाले छात्र इसकी लत के सबसे ज्यादा शिकार हैं और आए दिन मोबाइल गेम के कारण होने वाली घटनाएं सामने आती रहती हैं। पिछले कई सालों में मोबाइल गेम की लत के कारण कई बच्चों के आत्महत्या करने के मामले भी सामने आ चुके हैं। बच्चों के मां-बाप और शुभचिंतकों को इसे गंभीरता से लेना चाहिए और फोन की लत से छुड़ाने के प्रयास किए जाने चाहिएँ।

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

संबंधित ख़बरें

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.