August 17, 2022
Hindustan Hindi News

[ad_1]

Horoscope Rashifal 16 April 2022 : वैदिक ज्योतिष शास्त्र में कुल 12 राशियों का वर्णन किया गया है। हर राशि का स्वामी ग्रह होता है। ग्रह-नक्षत्रों की चाल से राशिफल का आकंलन किया जाता है। 16 अप्रैल 2022 को शनिवार है। इस दिन हनुमान जन्मोत्सव भी है। प. राघवेंद्र शर्मा से जानिए 16 अप्रैल 2022 को किन राशि वालों को होगा लाभ और किन राशि वालों को रहना होगा सावधान। पढ़ें मेष से लेकर मीन राशि तक का हाल…

मेष राशि- आत्मसंयत रहें। अपनी भावनाओं को वश में रखें। बातचीत में संयत रहें। नौकरी में स्थान परिवर्तन की सम्भावनाएं बन रही हैं। पारिवारिक सुख में कमी आ सकती है। आशा-निराशा के मिश्रित भाव रहेंगे। आय में कमी एवं खर्च अधिक रहेंगे। मानसिक कठिनाइयां रहेंगी। सन्तान को कष्ट रहेगा।

वृष राशि- मन प्रसन्न रहेगा। आत्मविश्वास भी भरपूर रहेगा। बौद्धिक कार्यो से मान-सम्मान की प्राप्ति‍ होगी। आय में वृद्धि होगी। माता के स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। वाहन के रखरखाव पर खर्च बढ़ सकते हैं। कार्यक्षेत्र में परिश्रम अधिक रहेगा। रहन-सहन कष्टमय रहेगा। घर-परिवार में धार्मिक कार्य होंगे।

संबंधित खबरें

 हनुमान जी के जन्मोत्सव को जयंती कहना सही या गलत, आप भी जानें ज्योतिषाचार्य का मत

मिथुन राशि- मन कुछ परेशान हो सकता है। नौकरी में कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी मिल सकती है। परिश्रम अधिक रहेगा। किसी सम्पत्ति से धन प्राप्त हो सकता है। आशा-निराशा के मिश्रित भाव मन में रहेंगे। सन्तान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। घर-परिवार में धार्मिक कार्य होंगे। सुखद समाचार की प्राप्ति होगी।

कर्क राशि- मानसिक शान्ति‍ के लिए प्रयास करें। माता-पिता के स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। रहन-सहन कष्टमय हो सकता है। कारोबार में वृद्धि होगी। यात्रा लाभप्रद रहेगी। कुछ पुराने मित्रों से भेंट हो सकती है। किसी धार्मिक स्थान की यात्रा पर जा सकते हैं, परन्तु जलाशय एवं नदी आदि में स्नान से बचें।

सिंह राशि- आत्मविश्वास भरपूर रहेगा। अति उत्साही होने से बचें। नौकरी में अफसरों से व्यर्थ के वाद-विवाद से दूर रहें। तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। आय बढ़ेगी। दुर्घटना के योग बन रहे हैं। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थान की यात्रा का कार्यक्षेत्र बन सकता है। संयत रहें। क्रोध एवं आवेश की अधिकता हो सकती है।

हनुमान जी को भक्तों से जुड़ा शनिदेव ने दिया था वचन, जानें बजरंगबली को क्यों कहा जाता है पवन पुत्र?

कन्या राशि- परिवार में सुख-शान्ति‍ रहेगी। नौकरी में कार्यक्षेत्र में वृद्धि हो सकती है। परिश्रम अधिक रहेगा। आय में वृद्धि होगी, परन्तु स्वास्‍थ्‍य का ध्यान रखें। स्वभाव में चिड़चिड़ापन भी रहेगा। जीवनसाथी को स्वास्थ्‍य विकार हो सकते हैं। खर्च अधिक रहेंगे। धर्म के प्रति श्रद्धाभाव रहेगा। मीठे खानपान में रुचि बढ़ सकती है।

तुला राशि- आशा-निराशा के भाव मन में हो सकते हैं। मित्रों का सहयोग मिलेगा। आय के स्रोत विकसित हो सकते हैं। धन वृद्धि होगी। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। सेहत का ध्यान रखें। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। मीठे खानपान में रुचि बढ़ेगी। यात्रा पर जाना हो सकता है। कार्यक्षेत्र में सफलता म‍िलेगी।

वृश्चिक राशि- मानसिक शान्ति‍ रहेगी। सन्तान सुख में वृद्धि हो सकती है। धर्म के प्रति श्रद्धाभाव रहेगा। बौद्धिक कार्यों से आय के साधन बनेंगे। कारोबार के प्रति सचेत रहें। सेहत का ध्यान रखें। वाहन सुख में कमी आएगी। कारोबार में सुधार होगा। कला एवं संगीत में रुचि बढ़ सकती है। कार्यों के प्रति जोश एवं उत्साह रहेगा।

हनुमान जयंती 2022 पर भूलकर भी न करें भद्राकाल में पूजा, जानें शनि दोष से मुक्ति के उपाय

धनु राशि- पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। आय में वृद्धि होगी। स्थान परिवर्तन भी हो सकता है। वस्त्रों आदि के प्रति रुझान बढ़ेगा। वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है। रहन-सहन अव्यवस्थित रहेगा। अनावश्‍यक खर्चों से मन परेशान हो सकता है। संबंधों में मधुरता आएगी।

मकर राशि- संयत रहें। आलस्य अधिक हो सकता है। किसी मित्र के सहयोग से कारोबार में सुधार होगा। माता-पिता से आर्थिक सहयोग मिल सकता है। मन में निराशा एवं असन्तोष के भाव रहेंगे। धैर्यशीलता में कमी रहेगी। स्वभाव में चिड़चिड़ापन भी हो सकता है। लंबे समय से रुके हुए काम बनेंगे।

कुंभ राशि- आत्मसंयत रहें। परिवार में व्यर्थ के वाद-विवाद से बचें। कारोबार में वृद्धि होगी। यात्रा लाभप्रद रहेगी। कार्यक्षेत्र में प्रतिकूल परिस्थितियां हो सकती हैं। बातचीत में संयत रहें। मित्रों का सहयोग मिलेगा। आत्मविश्वास से लबरेज रहेंगे, परन्तु अति उत्साही होने से बचें। निराशा एवं असन्तोष के भाव रहेंगे।

मीन राशि– शैक्षिक कार्यों में मन लगेगा। सन्तान सुख में वृद्धि होगी। कुटुम्ब के किसी बुजुर्ग से धन प्राप्त हो सकता है। वस्त्रों पर खर्च बढ़ेंगे। परिश्रम अधिक रहेगा। क्रोध की अधिकता रहेगी। जीवनसाथी से वैचारिक मतभेद हो सकते हैं। नौकरी में इच्छा विरुद्ध कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी मिल सकती है।

बेहद शुभ योग में मनाई जाएगी हनुमान जयंती, जानिए शुभ मुहूर्त व अन्य जरूरी बातें

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.